‘अच्छा है, अखिलेश मेरा दबाव तो मानते हैं…’ मायावती से जुड़े सवाल पर सीएम योगी का तंज – Akhilesh accepts my pressure CM Yogi taunts on the question related to Mayawati ntc


UP की पूर्व सीएम मायावती ने हाल ही में घोषणा की कि वो 2024 का लोकसभा चुनाव अकेले लड़ेंगीं. यानी ये स्पष्ट है कि बसपा अब इंडिया गठबंधन का हिस्सा नहीं होने वाली है. ऐसे में अन्य विपक्षी दलों ने मायावती पर निशाना साधते हुए कहा कि ये तो भाजपा का फायदा कराने वाली हैं. 

इस पर सीएम योगी ने कहा कि हर राजनीतिक दल को अपने हिसाब से रणनीति तय करने का अधिकार है. उन्होंने कहा कि हमें किसी अन्य राजनीतिक दल पर टिप्पणी करने का अधिकार नहीं है. 

मायवती के फैसले से भाजपा को क्या फायदा?

मायवती के फैसले से भाजपा को क्या फायदा होगा, इस सवाल के जवाब में योगी ने कहा कि हमारी रणनीति ही तय करेगी कि क्या फायदा होना है, क्या नुकसान होना है. सीएम योगी ने कहा कि 2014 में ये लोग अलग-अलग लड़े थे. 2017 में अलग-अलग लड़े थे. वहीं 2019 में इन दलों ने महागठबंधन भी बनाया. लेकिन तब भी इन्हें कोई फायदा नहीं हुआ. सीएम योगी ने बताया कि हम तो तब भी अच्छे बहुमत से जीते और सरकार चला रहे हैं. 

क्या BJP के दबाव में अखिलेश पर हमला बोल रहीं मायावती?

मायावती ने अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस में सपा प्रमुख अखिलेश यादव को गिरगिट कह दिया था. इस बयान पर अखिलेश यादव ने कहा कि हम तो मायावती को पीएम बनाने पर विचार कर रहे थे. लेकिन वो तो दबाव में मेरे खिलाफ बोल रही हैं. 

CBI, ED का दबाव तो नहीं?

इस पर सीएम योगी से पूछा गया कि ये दबाव केंद्र सरकार, CBI, ED का तो नहीं? इसके जवाब में सीएम योगी ने मजाकिया अंदाज में कहा, ‘अच्छा है, अखिलेश मेरा दबाव तो मानते हैं. आगे उन्होंने कहा, अखिलेश यादव संभवत: गेस्ट हाउस कांड को भूल गए होंगे. या स्मारकों के प्रति अखिलेश अपनी शब्दावली को भूल गए होंगे. 

यह भी पढ़ें- ‘काशी-मथुरा बाकी है…’ वाले एजेंडे पर क्या है सीएम योगी का रुख? आजतक से खास बातचीत में दिया जवाब

सीएम योगी ने कहा कि अखिलेश यादव तो कभी कांग्रेस के साथ जाते हैं, कभी BSP के साथ जाते हैं. सीएम योगी ने लोकसभा चुनाव को लेकर अपना प्लान बताते हुए कहा कि हमारी को कोशिश है कि 80 में से 80 सीटें जीतें.

आजतक से खास बातचीत के दौरान सीएम योगी ने कहा कि मैं राम मंदिर बनने के पूरे अभियान का छोटा सा सिपाही हूं. सीएम योगी ने कहा कि हम राजनीति में मूल्यों और सिद्धांतो के साथ आए हैं. राजनीति मेरा पेशा नहीं है. 

इंटरव्यू में जब सीएम योगी से पूछा गया कि वो अगले 50 वर्षों में अयोध्या नगरी को कैसे देख रहे हैं. तो इसके जवाब में उन्होंने कहा, हमने अबतक अयोध्या को सिर्फ एक छोटी नगरी के रूप में जाना है. अगर हम शोध करें तो यह पूरे विश्व की राजधानी है. 

काशी-मथुरा को लेकर क्या है सीएम योगी की तैयारी?

सीएम योगी ने बातचीत के दौरान कहा कि हमने अपना वादा ‘राम लला हम आएंगे, मंदिर वहीं बनाएंगे’ पूरा कर दिखाया है. इसके बाद सीएम योगी से जब RSS के दूसरे वादे (अयोध्या तो बस झांकी है, काशी-मथुरा बाकी है) के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ये विषय अभी न्यायालय में है. हमने रामलला के लिए 500 वर्षों तक संघर्ष किया. हमने मर्यादित तरीके से ही न्याय और सत्य की विजय प्राप्त करने के बाद ही राम लला का मंदिर बना रहे हैं.

यह भी पढ़ें- गुंबद वाली जगह नहीं बन रहा राम मंदिर का गर्भगृह? संजय राउत के दावे पर सीएम योगी ने दिया दो टूक जवाब

अदालत के जरिए ही होगा फैसला- सीएम योगी 

सीएम योगी ने कहा कि ऐसे ही हम इस मामले को भी न्यायालय के जरिए ही हल करेंगे. हम हर सबूत कोर्ट के सामने रखेंगे और अपनी लड़ाई लड़ेंगे. इसके बाद सीएम योगी से जब स्पष्ट पूछा गया कि कृष्ण मंदिर की तारीख कब आएगी. तो सीएम योगी ने कहा कि सब कुछ कानूनी तरीके से किया जाएगा. प्रभु की तारीख हम कैसे तय कर सकते हैं. जब प्रभु की इच्छा होगी, तब हो जाएगा. 

इसके अलावा राजनीतिक बवाल भी अयोध्या को लेकर खूब हो रहा है. सीएम योगी ने उस विषय पर भी अपनी बात रखी. राम मंदिर के गर्भगृह को लेकर संजय राउत का कहना है कि भाजपा इस राम मंदिर को ठीक स्थान पर नहीं बना रही है. यानी राम मंदिर के गर्भगृह को ठीक उस जगह नहीं बनाया जा रहा, जहां उसे होना चाहिए. दरअसल माना जाता है कि रामलला का असली जन्मभूमि वही है जहां कि बाबरी का गुंबट हुआ करता था. 

यह भी पढ़ें- ‘सरयू में कुछ लोग गोलियां चलाते थे, आज क्रूज चल रहे हैं’, आजतक से बोले सीएम योगी

तो क्या ठीक जगह नहीं बन रहा राम मंदिर

ऐसे में उद्धव गुट के नेता ने आरोप लगाया है कि भाजपा ने मंदिर ठीक उस जगह नहीं बनाया है. इस आरोप पर सीएम योगी ने साफ कहा कि मंदिर बिल्कुल ठीक जगह बन रहा है. संजय राउत और उद्धव ठाकरे तो खुद दर्शन करने आ चुके हैं. 

सीएम योगी ने संजय राउत पर कसा तंज

सीएम योगी ने कहा कि जब संजय राउत और उद्धव ठाकरे अयोध्या आए थे, तो उन्होंने अपना ये अमूल्य सुझाव तब क्यों नहीं दिया. UBT नेताओं पर तंज कसते हुए सीएम योगी ने कहा कि अंगूर खट्टे हैं ये तो कोई भी बोल सकता है. 

‘मंदिर वहीं बन रहा है’

सीएम योगी ने स्पष्ट कहा कि हमारी पूरी लड़ाई ही वही थी कि ‘राम लला हम आएंगे, मंदिर वहीं बनाएंगे’ और मंदिर अब वहीं पर बन रहा है. 

Leave a Comment