क्या किसानों के साथ बनेगी केंद्र की बात… दिल्ली कूच से पहले चंडीगढ़ में होगी अहम बैठक – chandigarh before farmers march delhi chalo central government leaders meeting on 12th february with farmers in punjab arjun munda piyush goel ntc


किसान नेता सरवन सिंह पंधेर ने शनिवार को कहा कि केंद्र ने उनकी मांगों पर चर्चा के लिए उन्हें 12 फरवरी को आमंत्रित किया है. किसान नेता ने कहा कि तीन केंद्रीय मंत्री- पीयूष गोयल, अर्जुन मुंडा और नित्यानंद राय संयुक्त किसान मोर्चा (गैर-राजनीतिक) और किसान मजदूर मोर्चा के प्रतिनिधिमंडल के साथ बातचीत करने के लिए 12 फरवरी को चंडीगढ़ पहुंचेंगे. केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा, पीयूष गोयल और नित्यानंद राय सोमवार को चंडीगढ़ में किसान यूनियन से मुलाकात करेंगे. इस दौरान 12 फरवरी तो शाम 5 बजे सेक्टर 26 में किसानों के साथ अहम बैठक की जाएगी.

कहां होगी किसानों के साथ बैठक
यह बैठक किसानों के ‘दिल्ली चलो’ मार्च से एक दिन पहले यहां सेक्टर 26 में महात्मा गांधी राज्य लोक प्रशासन संस्थान में होगी. पंधेर ने चंडीगढ़ में बातचीत के लिए उन्हें आमंत्रित करने वाला पत्र भी साझा किया। तीनों केंद्रीय मंत्रियों के साथ पहली बैठक आठ फरवरी को हुई थी.

हरियाणा सरकार की निंदा की
किसान मजदूर संघर्ष समिति के महासचिव पंधेर ने सात जिलों में मोबाइल इंटरनेट सेवाओं और एक साथ कई एसएमएस भेजने की सेवा पाबंदी लगाने के फैसले के लिए हरियाणा सरकार की निंदा की है. संयुक्त किसान मोर्चा (गैर-राजनीतिक) और किसान मजदूर मोर्चा ने कई मांगों को स्वीकार करने के लिए केंद्र पर दबाव बनाने के लिए 13 फरवरी को 200 से अधिक किसान संघों के साथ ‘दिल्ली चलो’ मार्च की घोषणा की थी.

दिल्ली कूच की तैयारी में हैं किसान
अपनी मांगों को लेकर किसान संगठन एक बार फिर दिल्ली की ओर कूच करने की तैयारी में हैं. दरअसल, हरियाणा और पंजाब के किसान संगठनों ने ‘दिल्ली चलो’ का नारा दिया है. किसान संगठन न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) के लिए कानूनी गारंटी और स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागू करने समेत अन्य मांगों के साथ 13 फरवरी को ‘दिल्ली चलो’ मार्च में शामिल होने के लिए कमर कस रहे हैं.

13 फरवरी को दिल्ली कूच करने की तैयारी
जैसे-जैसे 13 फरवरी नजदीक आ रही है, वैसे-वैसे एक बार फिर किसान आंदोलन की आहट सुनाई दे रही है. इसको लेकर हरियाणा और पंजाब के किसान संगठन लगातार युद्धस्तर पर तैयारी कर रहे हैं. किसान संगठनों के नेता और कार्यकर्ता लगातार हरियाणा और पंजाब के अलग-अलग जिलों में बैठकर कर रहे हैं. वहीं, बता दें कि गुरुवार को पंजाब के सीएम भगवंत मान की मध्यस्थता के बाद हुई केंद्रीय मंत्रियों और किसान संगठन के नेताओं की चंडीगढ़ की बैठक में फिलहाल कोई हल नहीं निकला था

किसानों ने कहा था कि, केंद्र सरकार 13 फरवरी से पहले दे जवाब’
किसानों ने कहा कि 12 फरवरी से पहले सरकार हमारी ओर से बताई गई मांगों पर विचार करके हमें जवाब दे. उन्होंने कहा कि अभी 13 फरवरी से शुरू होने वाले दिल्ली कूच और किसान आंदोलन की रणनीति जस की तस बनी रहेगी और किसान 13 फरवरी को दिल्ली की और कूच करने की तैयारी पहले से कर रहे हैं और अभी भी करेंगे. केंद्र सरकार को 13 फरवरी से पहले जवाब देना होगा, नहीं तो दिल्ली की और हर हाल में कूच किया जाएगा.

गांव-गांव से इकट्ठा हो रहा है राशन
सामने आया है कि, 13 फरवरी की पूरी तैयारी है. बड़ी तादाद में किसान दिल्ली की तरफ कूच करेंगे. गांव-गांव में राशन इकट्ठा किया जा रहा है. दूसरे दौर की बातचीत के लिए अभी कोई समय नहीं दिया गया है. पीयूष गोयल, नित्यानन्द राय और अर्जुन मुंडा से गुरुवार शाम को 6 बजे चंडीगढ़ में किसान संगठनों से बात हुई. इस दौरान मुख्यमंत्री कि अध्यक्षता में गृह विभाग कि महत्वपूर्ण बैठक हुई थी.

अब एक बार फिर तीनों मंत्री सोमवार को चंडीगढ़ में किसानों से बात करेंगे. 

Leave a Comment