क्या ‘डिनर पॉलिटिक्स’ के जरिए दिल्ली को संदेश देना चाहती हैं वसुंधरा राजे? घर पहुंच रहे कई विधायक – Does Vasundhara Raje want to give a message to Delhi through dinner politics ntc


चुनावी राज्य राजस्थान में नतीजे आ चुके हैं और भाजपा को स्पष्ट बहुमत मिला है. 199 में से 115 सीटों पर भाजपा जीती है तो वहीं 69 सीटों पर कांग्रेस को जीत मिली है. ऐसे में अब पार्टी के सामने सबसे बड़ी चुनौती यह है कि मुख्यमंत्री किसे बनाया जाए. सीएम पद की इस रेस में कई नाम सामने आ रहे हैं. चर्चा है कि भाजपा नेतृत्व बालकनाथ के नाम पर विचार कर रहा है तो वहीं दूसरी ओर पूर्व सीएम रहीं वसुंधरा राजे भी अपने यहां विधायकों को निमंत्रण देकर दिल्ली को संदेश देने को कोशिश कर रही हैं. 

जहां बाबा बालकनाथ आज दिल्ली में BJP मुख्यालय पहुंचे. तो वहीं जयपुर में बैठकर ही वसुंधरा राजे ने विधायकों के साथ बैठक शुरू कर दी है. और बात सिर्फ बैठक तक ही नहीं रह गई है. यहां मामला विधायकों के डिनर तक पहुंच गया है. वसुंधरा राजे ने सोमवार शाम को कई विधायकों को अपने घर पर डिनर के लिए बुलाया है. 

वसुंधरा राजे से मिलने पहुंच रहे विधायक

जयपुर में वसुंधरा राजे आवास के अंदर जाते हुए बीजेपी विधायक बहादुर सिंह कोली ने कहा कि वसुंधरा राजे को सीएम बनना चाहिए, लेकिन उन्होंने कहा कि वह पार्टी के फैसले के साथ हैं. इसके अलावा BJP के नवनिर्वाचित जहाजपुर से आने वाले विधायक गोपीचंद मीणा ने वसुंधरा राजे से मुलाकात की और कहा कि लोग वसुंधरा राजे को मुख्यमंत्री के रूप में देखना चाहते हैं. ब्यावर से आने वाले विधायक सुरेश रावत भी वसुंधरा के आवास पर पहुंचे. उन्होंने कहा कि वसुंधरा ने पहले बहुत अच्छा काम किया है, लेकिन आलाकमान जिसे सीएम बनाए वही होगा. हम पार्टी के साथ हैं. 

विधायकों को डिनर का न्योता

पिन्डवारा से जीते बीजेपी विधायक समाराम गरासिया ने कहा कि वसुंधरा राजे के यहां हम लोगों को डिनर पर बुलाया गया है. बताते चलें कि विधायक कालीचरण सराफ, बाबू सिंह राठौड़, प्रेमचंद बैरवा, कालीचरण सराफ, रामस्वरूप लांबा, गोविंद रानीपुरिया, ललित मीना, कंवरलाल मीना, राधेश्याम बैरवा, कालूलाल मीना, गोपीचंद मीना, प्रताप सिंह सिंघवी, बहादुर सिंह कोली, शंकर सिंह रावत मंजू बागमार, विजयपाल सिंह और अन्य विधायकों ने कल शाम से जयपुर के 13 सिविल लाइंस बंगले में वसुंधरा राजे से मुलाकात की थी.

इस डिनर और प्रेशर पॉलिटिक्स का फायदा आने वाले वक्त में वसुंधरा को मिलेगा या नहीं, ये देखना दिलचस्प होगा. लेकिन फिलहाल तक तो सीएम के पद पर किसी एक उम्मीदवार का नाम तय नहीं हो सका है.

Leave a Comment