‘पहले औकात और अब अंडे से निकले चूजे…’ MP के बदजुबानी वाले अफसरों पर सख्त हुए CM मोहन यादव – CM Mohan yadav became strict on ill mannered officers of MP action against dewas tehsildar & shajapur Dm lcln


मध्यप्रदेश के बदजुबान और लापरवाह अधिकारियों पर मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव सख्त एक्शन लेने से नहीं चूक रहे हैं. शाजापुर में ड्राइवर से ‘औकात’ पूछने वाले कलेक्टर के बाद अब देवास में किसानों से अभद्र भाषा में बात करने वाली महिला तहसीलदार के खिलाफ कार्रवाई की गई है. इससे पहले सीएम यादव ने अपनी सख्ती का परिचय देते हुए गुना बस हादसे के बाद ऊपर से लेकर नीचे तक के अफसरों पर गाज गिराई थी. 

ताजा मामला देवास जिले की महिला तहसीलदार अंजली गुप्ता पर हुई कार्रवाई का है. जिले के सोनकच्छ के निकट कुमारिया राव गांव में खड़ी फसल के बीच खेतों में बिजली के खंभे लगाने को लेकर किसान और तहसीलदार अंजली गुप्ता आमने -सामने हो गए. इस दौरान किसान के बेटे ने अंग्रेजी में कह दिया- ‘यू आर रिस्पॉन्सिबल.’ यह शब्द सुनते ही तहसीलदार भड़क उठीं और बोलने लगीं, ”चूजे हैं ये. अंडे से निकले नहीं, बड़ी-बड़ी मरने-मारने की बात करते हैं. मैं अभी तक आराम से बात कर रही थी लेकिन आज इसने कैसे बोल दिया मैं कैसे जिम्मेदार हूं?” देखें Video:-

50 सेकंड का यह वीडियो दोपहर को वायरल हुआ और रात होते-होते तहसीलदार मैडम का तबादला कर दिया गया. सीएम डॉक्टर मोहन यादव के निर्देश पर कलेक्टर ऋषव गुप्ता ने अंजली गुप्ता को जिला मुख्यालय के निर्वाचन कार्यालय में अटैच कर दिया.

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘इस तरह की अभद्र भाषा बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं की जाएगी. मेरे निर्देश के बाद कलेक्टर ने तहसीलदार को जिला मुख्यालय से संबद्ध कर दिया है. सुशासन ही मेरी सरकार का मूल मंत्र है.’’

ड्राइवर से ‘औकात’ पूछने वाले कलेक्टर पर भी एक्शन
इससे पहले मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव ने शाजापुर कलेक्टर किशोर कन्याल को हटा दिया था. ड्राइवर से ‘औकात’ पूछने वाले बयान को लेकर जिलाधिकारी के खिलाफ यह एक्शन लिया गया था. इस मामले को लेकर CM यादव ने कहा, यह सरकार गरीबों की सरकार है. सबके काम का सम्मान होना चाहिए और भाव का भी सम्मान होना चाहिए. साथ ही हिदायत दी थी कि मनुष्यता के नाते ऐसी भाषा हमारी सरकार में बर्दाश्त नहीं. मैं खुद मजदूर परिवार का बेटा हूं. इस तरह की भाषा बोलना उचित नहीं है. अधिकारी भाषा और व्यवहार का ध्यान रखें.

बता दें कि ड्राइवर यूनियन के प्रतिनिधियों के साथ मीटिंग के दौरान कलेक्टर किशोर कन्याल अपना आपा खो बैठे थे. वीडियो में नजर आ रहा है कि जब ड्राइवर्स के एक प्रतिनिधि ने कलेक्टर से ठीक ढंग से बातचीत करने का आग्रह किया तो उन्होंने ड्राइवर्स और अन्य से कानून अपने हाथ में नहीं लेने को कहा. साथ एक एक व्यक्ति से बोले, क्या करोगे तुम, क्या औकात है तुम्हारी? देखें Video:-

13 मौतों को लेकर भी टॉप टू बॉटम सर्जरी

गुना बस हादसे में हुई 13 लोगों की मौत के बाद मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव ने ऊपर से नीचे तक ताबड़तोड़ प्रशासनिक सर्जरी कर डाली थी. CM के निर्देश के बाद गुना जिले के कलेक्टर तरुण राठी, एसपी विजय कुमार खत्री के साथ परिवहन विभाग के प्रमुख सचिव सुखवीर सिंह और परिवहन आयुक्त संजय कुमार झा को हटा दिया गया. इसके अलावा गुना में पदस्थ एआरटीओ रवि बरेलिया और गुना नगरपालिका के सीएमओ बीडी कतरोलिया को सस्पेंड कर दिया गया था. 

पता हो कि मध्य प्रदेश के गुना जिले में 27 दिसंबर 2023 की रात करीब 8 बजे एक डंपर से टकराने के बाद बस में आग लग गई. इस हादसे में जलने से 13 लोगों के शव राख बन गए. एक दर्जन से ज्यादा अन्य गंभीर रूप से झुलस गए. भीषण हादसा गुना-आरोन रोड पर हुआ, जब प्राइवेट बस और डंपर के बीच आमने सामने की टक्कर हो गई. बस में लगभग 35 यात्री सवार थे और उनमें से चार किसी तरह बस से बाहर निकलने में कामयाब रहे और घर चले गए.

Leave a Comment