Mayor Election Controversy: BJP पर वोट चोरी करने का आरोप, AAP पार्षदों का चंडीगढ़ में प्रदर्शन – Chandigarh Mayor Election Controversy AAP Accuses BJP Vote Chor Police Action On Workers NTC


चंडीगढ़ के मेयर चुनाव में कथित धांधली का आम आदमी पार्टी लगातार विरोध कर रही है. पार्टी कार्यकर्ताओं ने रविवार को नगर निगम कार्यालय के बाहर विरोध-प्रदर्शन किया. कार्यकर्ताओं ने अपने हाथों में ‘#VoteChorBJP’ की तख्तियां ली हुई थी. इस दौरान मौके पर भारी पुलिस बलों की तैनाती करनी पड़ी. 

आप कारकर्ताओं पर कथित रूप से पुलिस ने कार्रवाई भी की. सभी कार्यकर्ताओं समेत प्ररदर्शन में शामिल तमाम नेताओं को भी हिरासत में ले लिया गया. बताया जा रहा है कि पुलिस एक्शन के दौरान आम आदमी पार्टी के पंजाब प्रभारी डॉक्टर एसएस अहलूवालिया सड़क पर गिर गए. उनके सिर में चोट आई. मौके पर देखा गया कि वह अपने सिर को पकड़े हुए हैं और पार्टी कार्यकर्ताओं ने उन्हें घेर रखा है. वह सड़क ही बैठ गए. उनका दस्तार भी उतर गया. पुलिस ने उन्हें उसी हालत में हिरासत में लिया.

ये भी पढ़ें: लॉरेंस बिश्नोई का करीबी गिरफ्तार, सिंगर सिद्धू मूसेवाला के हत्यारों को छिपाने में की थी मदद

भूख हड़ताल पर बैठे कार्यकर्ता-पार्षद

प्रदर्शन में पार्टी के कई पार्षद और नेता भी पहुंचे थे, जिन्हें कार्रवाई करते हुए पुलिस ने हिरासत में ले लिया. मेयर चुनाव में गड़बड़ी का आरोप लगाते हुए आम आदमी पार्टी के पार्षद और कार्यकर्ता मेयर ऑफिस के बाहर भूख हड़ताल पर बैठ गए. विरोध-प्रदर्शनों को देखते हुए मेयर कार्यालय के आसपास भारी पुलिस बलों की तैनाती की गई. चंडीगढ़ मानो छावनी में तब्दील हो गया है. वीडियो में देखा जा सकता है कि आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता मेयर के खिलाफ नारेबाजी कर रहे हैं और कथित रूप से मुर्दाबाद के नारे लगा रहे हैं.

ये भी पढ़ें: अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी न कभी प्राथमिकता रही, न ही लक्ष्य: केंद्रीय मंत्री परषोत्तम रूपाला

30 जनवरी को हुए चंडीगढ़ में मेयर चुनाव

पंजाब एंड हरियाणा हाई कोर्ट के आदेश पर 30 जनवरी को मेयर का चुनाव किया गया. मतदान के लिए पहले 18 जनवरी की तारीख निर्धारित थी लेकिन प्रिजाइडिंग ऑफिसर की तरफ से कुछ निजी वजहों को लेकर मतदान को स्थगित कर दिया गया था.

इंडिया गठबंधन को 20 वोट होने पर भी मिली हार

आम आदमी पार्टी ने कांग्रेस के साथ मिलकर इंडिया गठबंधन में मेयर का चुनाव लड़ा. दोनों दलों के पास कुल 20 वोट थे लेकिन 16 वोटों के समर्थन वाली बीजेपी को जीत मिल गई. प्रिजाइडिंग ऑफिसर ने गठबंधन के 8 वोटों को रद्द कर दिया था. यह मामला अभी हाई कोर्ट में चल रहा है, जहां गठबंधन ने याचिका दायर कर रखी है.
 

Leave a Comment