UPSC-IIT JEE में सबसे टफ कौन? जानिए कौन हैं आनंद महिंद्रा को ‘फर्क’ बताने वाले IPS अफसर – Which is the toughest Exam between UPSC vs JEE Know who is the IPS officer who told the difference to Anand Mahindra


Which is the Toughest Exam between UPSC vs JEE: यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा और इंजीनियरिंग में एडमिशन के लिए जॉइंट एंट्रेंस एग्जाम (IIT JEE)  दुनिया की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक मानी जाती है. ‘The World Ranking’ द्वारा जारी दुनिया की सबसे कठिनतम परीक्षाओं में आईआईटी जेईई नंबर-2 और यूपीएससी नंबर-3 पर है. महिंद्रा एंड महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद महिंद्रा ने हाल ही में यह लिस्ट अपने ‘एक्स’ (पहले ट्विटर) अकाउंट पर शेयर की है. हालांकि उनके ट्वीट के बाद सोशल मीडिया पर ‘UPSC Vs IIT JEE’ की बहस शुरू हो गई है. कई यूजर्स ने यूपीएससी और आईआईटी जेईई में सबसे टफ कौन-सी परीक्षा है? पर रिएक्शन दिया है. उन्हीं में से एक IPS अर्चित चांडक भी हैं, जिन्हें आनंद मंहिद्रा को दोनों परीक्षा के बीच का ‘फर्क’ बताया है.

कौन हैं IPS अफसर अर्चित चांडक?
अर्चित महाराष्ट्र के नागपुर के शंकर नगर के रहने वाले हैं. वह वीरेंद्र और छाया चांडक के इकलौते बेटे हैं. उनके माता-पिता एमआईडीसी हिंगना में नागपुर टेक्नो मार्केटिंग प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक हैं. 

35 लाख पैकेज छोड़ शुरू की थी यूपीएससी की तैयारी
अर्चित चांडक ने अपनी स्कूली शिक्षा भवन के बीपी विद्या मंदिर से पूरी की. 2012 में जेईई परीक्षा पास करने के बाद अर्चित आईआईटी दिल्ली गए और सिटी टॉपर बनकर उभरे. उन्होंने कॉलेज से मैकेनिकल इंजीनियरिंग की डिग्री पूरी की. अपने कॉलेज के दिनों में, अर्चित ने सरकार के लिए काम करने और देश की सेवा करने का फैसला किया. इंटर्नशिप के दौरान अर्चित को एक जापानी कंपनी ने 35 लाख रुपये का पैकेज भी ऑफर किया था. लेकिन उन्होंने नौकरी से इनकार कर दिया और सिविल सेवा परीक्षा पास करने के लिए यूपीएससी की तैयारी करने चले गए. उन्होंने अपनी ग्रेजुएशन की डिग्री पूरी करने के बाद 2016 में अपनी तैयारी शुरू की.

पहले अटेंप्ट में पाई थी AIR 184वीं रैंक
अर्चित ने साल 2018 में अपने पहले अटेंप्ट में यूपीएससी सिविल सर्विसेज एग्जाम क्रैक कर अखिल भारतीय रैंक (AIR) 184 हासिल की थी. वे शुरुआत में महाराष्ट्र के भुसावल में बाजारपेठ पुलिस स्टेशन में स्टेशन हाउस ऑफिसर के रूप में तैनात थे. अब वे नागपुर में पुलिस उपायुक्त (डीसीपी) नियुक्त हैं. उन्होंने अपनी यूपीएससी क्लासमेट आईएएस सौम्या शर्मा से शादी की है, जो जिला परिषद नागपुर के सीईओ के रूप में कार्यरत हैं.

आनंद महिंद्रा के इस ट्वीट से छिड़ी UPSC Vs IIT JEE की बहस
आनंद महिंद्रा ने ट्वीट में लिखा, ’12वीं फेल देखने के बाद मैंने आसपास चेक किया और हमारी प्रवेश परीक्षाओं की सापेक्ष कठिनाई के बारे में कई युवाओं से बात की. उनमें से एक आईआईटी से ग्रेजुएट था जो एक बिजनेस स्टार्टअप से जुड़ा है लेकिन उसने यूपीएससी परीक्षा भी दी है. उन्होंने जोर देकर कहा कि यूपीएससी आईआईटी जेईई से कहीं अधिक कठिन है. मुझे आश्चर्य है कि अगर यह एक आम धारणा है, तो इस स्थिति में इस रैंकिंग को बदलने की जरूरत है!’

आनंद महिंद्रा को बताया UPSC-IIT JEE में से कौन टफ और क्यों?
IPS ऑफिसर अर्चित चांडक ने आनंद महिंद्र के ट्वीट पर दोनों परीक्षाओं की कठिनता का फर्क बताते हुए यूपीएससी एग्जाम के जेईई से ज्यादा टफ होने की 5 वजह भी गिनवाई हैं. 

उन्होंने ट्वीट में लिखा, ‘सर, दोनों देने के बाद, कह सकते हूं कि यूपीएससी सीएसई को पास करना ‘अधिक’ कठिन है. 
1. बहुत कम सीटें (यूपीएससी सीएसई के उलट, 1000 से ऊपर रैंक आपको आसानी से आईआईटी में सीट दिला देती है)
2. एग्जाम का अनप्रिडिक्टेबल नेचर (क्वेच्न फॉर्मेट, पैटर्न आदि नियमित रूप से बदलते रहते हैं)
3. परीक्षा की विषयपरकता (जेईई लॉजिकल रिजनिंग पर ज्यादा आधारित है और परीक्षा खुद काफी हद तक ऑब्जेक्टिव टाइप होती है, जबकि यूपीएससी एग्जाम के सवाल विचारोत्तेजक होते हैं और आपके खुद के विश्लेषण की आवश्यकता होती है)
4. सिर्फ सेल्फ स्टडी ही आपको सफलता दिला सकती है (आप जेईई में एक अच्छी कोचिंग में शामिल हो सकते हैं – वे आपको बहुत अच्छी तरह से गाइड कर सकते हैं, जैसा वे कहते हैं वैसा ही करें, यूपीएससी के उलट जहां किसी को खुद प्रेरित होना पड़ता है और खुल के लिए नोट्स बनाने पड़ते हैं)
5. बहुत बड़ा सिलेबस और करंट इवेंट को समझना (जेईई का सिलेबस पीसीएम और स्थिर होता है).’



Leave a Comment